[entertainment]


क्या है यम त्रयोदशी (Yam Trayodashi) का महत्व ?-2016

क्या है यम त्रयोदशी का महत्व ?






कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को सायंकाल के समय यम पूजन की परंपरा रही है। इस यम  का दीपक बनाकर घर के मुख्यद्वार पर रखा जाता है। रात्रि को घर की स्त्रियां दीपक में तेल डालकर नयी रुई की बत्ती बनाकर , चार बत्तियां जलाती है। जल ,रोली ,फूल , चावल , गुड़ , नैवेद्द आदि सहित दीपक जलाकर स्त्रियां यम का पूजन करती है।  अतः डीप जलाते समय पूर्ण श्रद्धा से उन्हें नमन तो करें ही साथ ही यह भी प्रार्थना करें की वे आपके परिवार पर दया दृष्टि बनाये रखे और किसी की अकाल मृत्यु न हो। साथ ही निम्नलिखित मन्त्र का उचारण करें :-






‘मृत्युना दण्डपाशाभ्यां कालेन श्यामया सह ।

त्रयोदश्यां दीपदानात्‌ सूर्यजः प्रीयतां मम ॥’




क्या है यम त्रयोदशी (Yam Trayodashi) का महत्व ?-2016 क्या है यम त्रयोदशी (Yam Trayodashi)  का महत्व ?-2016 Reviewed by Ankita Deshmukh on सोमवार, अक्तूबर 24, 2016 Rating: 5
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...