[entertainment]


कंगना राणावत के प्रेरणादायक विचार हिंदी में

बॉलीवुड की सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्रियों में इनका नाम लिया जाता है। तीन राष्ट्रीय और चार फ़िल्मफ़ेअर अवार्ड जीतने वाली कंगना रनौत दरअसल एक डॉक्टर बनना चाहती थी। 23 मार्च 1986 को हिमाचल प्रदेश के मंडी ज़िला की सरकाघाट तहसील के अन्तर्गत भाम्बला ग्राम में एक राजपूत परिवार में कंगना का जन्म हुआ था । उनकी माता आशा रनौत एक स्कूल टीचर और पिता अमरदीप राणावत एक व्यापारी थे। उनकी एक बड़ी बहन, रंगोली 2014 से कंगना की मेनेजर है और उनका छोटा भाई, अक्षत है। उनके परदादा सरजू सिंह रनौत, लेजिस्लेटिव असेंबली के सदस्य थे और उनके दादाजी इंडियन एडमिनिस्ट्रेशन सर्विस के अधिकारी थे। भाम्बला की प्राचीन हवेली में ही उनका पालन पोषण हुआ है और अपने बचपन की जिंदगी को राणावत “साधारण और खुश” बताती है।बचपन से ही कंगना की प्रवृति विद्रोही और ज़िद्दी थी शायद जो एक बार सोच लेती थी उसे करके ही दम लेती थी इसलिए आज उन्होंने इस मुकाम को हासिल किया है :-

कंगना राणावत के प्रेरणादायक विचार हिंदी में (Kangana Ranaut's Inspirational Quotes in Hindi)



मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार से हूँ और मेरे माता-पिता मेरे करियर विकल्पों के प्रति ज्यादा सजग नहीं थे।

मेरी सबसे बड़ी ताक़त यह है कि मैं सीखना जानती हूँ और इसी में विश्वास करती हूँ और यही मुझे आगे बढ़ने में मदद करता है। 






मेरे पूर्वज जयपुर के शाही परिवार के राजपूतों के वंशज हैं। 

जब मैं बच्ची थी तो किसी को दर्द में देखकर रोना शुरू कर देती थी। 

हिट और फ़्लॉप जैसे शब्द अहंकार दर्शाते हैं। 

अकेले रहने की आज़ादी अपने आप में एक नशा  है। 






मैं सूरजपुर से हूँ , यह मनाली (हिमाचल प्रदेश ) के समीप एक छोटी सी घाटी है जिसका नाम मेरे दादा "सरजू सिंह रनौत"  के नाम पर पड़ा। 

मैंने सिर्फ अपनी प्रवृति और अंतर्ज्ञान का पालन किया है , इसी ने मुझे अच्छे परिणाम दिए। 

जब कोई मुझे चुडेल या पागल कहता है तो मैं इसे अपमानजनक नहीं मानती। 

मेरे लिए जिंदगी में शौहरत या शर्मिंदगी को खोजना बहुत मुश्किल है और मैं इस तरह नहीं जी सकती। 





कंगना राणावत के प्रेरणादायक विचार हिंदी में कंगना राणावत के प्रेरणादायक विचार हिंदी में Reviewed by Lafandars on बुधवार, दिसंबर 14, 2016 Rating: 5
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...